देशव्यापी आह्वान पर डीएम के समक्ष किसानों का धरना प्रदर्शन सभा का आयोजन

राजनीति

13 सूत्री स्मार पत्र राष्ट्रपति के नाम जिला अधिकारी को किसान प्रतिनिधि मंडल ने सौंपा

खगड़िया किसान संयुक्त मोर्चा के देशव्यापी आह्वान पर अखिल भारतीय किसान संघर्ष समिति एवं ट्रेड यूनियन के बैनर तले किसान आंदोलन के 1 साल पूरे होने पर जिलाधिकारी के सामने 13 सूत्री मांगों के समर्थन में धरना प्रदर्शन सभा किया गया।
धरना प्रदर्शन सभा के माध्यम से प्रतिनिधिमंडल द्वारा राष्ट्रपति के नाम जिलाधिकारी को 13 सूत्री मांगों के बाबत स्मार पत्र सौंपा गया।
धरना प्रदर्शन कारियों ने तीन कृषि बिल काला कानून को संसद भवन में रद्द करने, न्यूनतम समर्थन मूल्य को कानूनी प्रावधान देने, शहीद किसानों को शहीद का दर्जा देने, आश्रितों को 50 लाख रुपए मुआवजा देने, किसानों को सभी प्रकार का कर्ज मुक्त करने, आंदोलन के क्रम में किया गया सभी फर्जी मुकदमा समाप्त करने, खाद का कालाबाजारी पर रोक लगाने, नकली एवं अवैध खाद निर्माण एवं बिक्री पर रोक लगाने, दोषी पर कानूनी कार्रवाई करने, किसान इनपुट से वंचित पंचायत को जोड़कर फसल छति पूर्ति जल्द देने, टोपोलैंड सहित अन्य जमीन का 2016 से रसीद काटने एवं रजिस्ट्री पर लगी रोक हटाने, खेती को उद्योग का दर्जा देने, धान अधिप्राप्ति में व्याप्त भ्रष्टाचार पर रोक लगाने, सभी पैक्स को ट्रैक्टर उपलब्ध कराने एवं रियायत दर पर किसानों का खेत जुताई करने, जल निकासी का व्यवस्था जल्द करने, गोगरी दहमा अलौली मौजा के उपजाऊ खेत में जलजमाव का जल निकासी करने, न्यू बिजली बिल को रद्द करने, साठ वर्ष से ऊपर तमाम किसानों को ₹5000 पेंशन देने, स्वामीनाथन आयोग की सिफारिश को लागू करने, महंगाई भ्रष्टाचार निजीकरण बेरोजगारी पेट्रोल डीजल गैस का दाम पर रोक लगाने की मांग की है।
धरना प्रदर्शन में समिति के संयोजक प्रभा शंकर सिंह, संरक्षक विजय सिंह, भाकपा के जिला मंत्री प्रभाकर सिंह, भाकपा माले के जिला संयोजक किरण देव यादव, माकपा के नेता सुरेंद्र प्रसाद, माले लिबरेशन के जिला संयोजक अरुण दास, किसान नेता सच्चिदानंद सिंह, कांग्रेस के जिलाध्यक्ष भानु प्रताप उर्फ गुड्डू पासवान, धर्मेंद्र कुमार, सुभाष सिंह, अभय वर्मा, रमेश चौधरी, आनंद राज, मधुबाला, तितली भारती, मुकेश कुमार, अशोक पासवान, डॉ कमल किशोर यादव, कालेश्वर ठाकुर, उमेश ठाकुर आदि ने भाग लिया। सभा की अध्यक्षता जितेंद्र कुमार ने किया।
नेताओं ने कहा कि जब तक उक्त मांग पूरा नहीं होगा, तब तक आंदोलन जारी रहेगा। तथा भाजपा सरकार को उखाड़ फेंकने के लिए किसान मजदूर आंदोलन को तेज किया जाएगा ।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *