पूर्व जिला परिषद अध्यक्ष बिंदी यादव की मौत, सांस लेने में हो रही थी परेशानी

Ravi Ranjan 82 0 23 July 2020

विनोद विरोधी की रिपोर्ट

जिला परिषद के पूर्व अध्यक्ष सह बिंदेश्वरी प्रसाद उर्फ बिंदी यादव की मौत गुरुवार को पीएमसीएच में हो गयी. वह विधान पार्षद सह जदयू नेत्री मनोरमा देवी के पति थे. वह मूलरूप से गया जिले के मोहनपुर थाना क्षेत्र के गणेशचक गांव के रहनेवाले थे. लेकिन, विगत 35 वर्षों से गया शहर के एपी कॉलोनी में रह रहे थे.बताया जाता है कि कुछ दिन पहले तबीयत बिगड़ने पर  बिंदी यादव होम कोरेंटिन हो गये थे. लेकिन, मंगलवार को उनकी तबीयत ज्यादा बिगड़ने पर उन्हें गया स्थित मगध मेडिकल कोविड अस्पताल में भर्ती किया गया था. उन्हें आज सांस लेने में ज्यादा परेशानी हुई, तो डॉक्टरों ने उन्हें पटना रेफर कर दिया था. मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने जदयू विधान पार्षद मनोरमा देवी के पति एवं गया जिला परिषद के पूर्व अध्यक्ष बिंदी यादव के निधन पर गहरी शोक संवेदना व्यक्त की है. मुख्यमंत्री ने दिवंगत बिंदी यादव की पत्नी एवं विधान पार्षद मनोरमा देवी से दूरभाष पर वार्ता कर उन्हें सांत्वना दी. मुख्यमंत्री ने दिवंगत आत्मा की चिरशांति तथा उनके परिजनों को दुःख की इस घड़ी में धैर्य रखने को कहा. बिंदी यादव अपने राजनीतिक जीवन में हमेशा विवादों से घिरे रहे. लालू प्रसाद यादव की पार्टी के टिकट से वह गुरुआ विधानसभा का चुनाव लड़े. लेकिन, बहुत कम मतों से चुनाव हार गये. इससे पहले वह जिला परिषद अध्यक्ष बने. इसके बाद इन्होंने अपनी पत्नी मनोरमा देवी को दो बार पंचायत स्तरीय विधान परिषद बनाने में सफल हुए. बिंदी यादव पर राजद्रोह का भी मुकदमा दर्ज है. 2012 में गया के तत्कालीन एसएसपी विनय कुमार ने बिंदी यादव को आठ हजार कारतूस के साथ गिरफ्तार किया था. उनके बेटे रॉकी यादव ने कुछ वर्ष पहले गया के एक व्यवसायी के बेटे की गोली मारकर हत्या कर दी थी. मामले में रॉकी यादव उम्रकैद की सजा काट रहा है. घटना के बाद विधान पार्षद मनोरमा देवी को पार्टी से निलंबित कर दिया गया था. लेकिन, बाद में मनोरमा देवी जदयू में शामिल हो गयीं.

लोगो की प्रतिक्रिया

No any comment posted yet..

अपनी प्रतिक्रिया दे