सदी का दूसरा सबसे दुर्लभ सूर्यग्रहण आज, भूलकर भी नहीं करें ये काम

Neeraj Kumar 1.19k 1 21 June 2020

डेस्क : आज लगने वाला सूर्यग्रहण कई मामलों में अनूठा है, लेकिन इस खागोलिय घटना को देखने के लिए आपको पूरी सावधानी बरतनी होगी। आर्यभट्ट प्रेक्षण एवं शोध संस्थान (एरीज) के मुताबिक यह ग्रहण भी वलय (रिंग) रूप में उत्तर भारत में सिर्फ 21 किमी चौड़ी एक पट्टी में ही नजर आएगा। अन्यत्र यह आंशिक ग्रहण की तरह ही दिखेगा। वलय की अधिकतम अवधि मात्र 38 सेकंड रहेगी। इस सदी के बीते 20 वर्षों में भारत से 5 सूर्यग्रहण जो 2005, 2006, 2009, 2010, 2019 में नजर आए। जो बात इस ग्रहण को बेहद दुर्लभ बनाती है वह यह है कि इसके बाद भारत से इस शताब्दी में सिर्फ तीन सूर्यग्रहण और दिखाई देंगे वे भी लंबे अंतरालों के बाद। आज का ग्रहण मिलाकर 20 वर्ष में कुल छह ग्रहण हो जाएंगे, जो एक से लेकर नौ वर्ष तक के अंतराल में पड़ते रहे। इसके चलते देशवासियों के लिए यह एक दुर्लभ घटना नहीं रही लेकिन इसके बाद पूरी इक्कीसवीं सदी में सिर्फ 3 सूर्यग्रहण भारत से नजर आएंगे वे भी क्रमश: 14, 30 और 21 वर्ष के अंतराल में पड़ेंगे।


गर्भवती महिलाएं घर में रहें

सूर्य ग्रहण का गर्भवती महिलाओं पर काफी असर पड़ता है। धार्मिक मान्यताओं के अनुसार सूर्य ग्रहण के समय गर्भवती महिलाओं को घर से बाहर नहीं जाना चाहिए। इस समय में घर से बाहर जाने से होने वाली संतान पर ग्रहण का विपरीत प्रभाव पड़ता है।


भगवान की मूर्तियों को स्पर्श न करें

धार्मिक मान्यताओं के अनुसार सूर्य ग्रहण के सूतक काल के आरंभ से लेकर सूर्य ग्रहण की समाप्ति तक भगवान की मूर्तियों को स्पर्श नहीं करना चाहिए। कल रात्रि 10 बजकर 15 मिनट से सूतक काल प्रारंभ हो गया है जो सूर्य ग्रहण की समाप्ति के साथ ही समाप्त होगा।


बाल-नाखून न काटें

आज रविवार का दिन और इस दिन बहुत से लोग बाल, नाखून काटना या दाढ़ी बनाना जैसे कार्य करते हैं। परंतु आज ये काम न करें। धार्मिक मान्यताओं के अनुसार सूर्य ग्रहण के सूतक काल से लेकर सूर्य ग्रहण की समाप्ति तक बाल नाखून नहीं काटने चाहिए।


सूर्य ग्रहण को नग्न आंखों से नहीं देखना चाहिए

सूर्य ग्रहण को नग्न आंखों से नहीं देखना चाहिए, इसके हानिकारक प्रभाव हो सकते हैं। हिंदू कालेज मुरादाबाद के भौतिकी के प्रोफेसर अनिल चौहान बताते हैं कि इस दौरान सूर्य से हानिकारक विकिरण निकलता है, जिससे आंखों को बेहद नुकसान हो सकता है, इससे आंखों के टिशु और आइरिस को क्षति पहुंचती है।

सूर्य ग्रहण देखने के लिए इन चीजों का इस्तेमाल करें

सूर्य ग्रहण देखने के लिए साधारण चश्मे का इस्तेमाल नहीं करना चाहिए। सोलर व्यूइंग ग्लास, सोलर फिल्टर या आइक्लिप्स ग्लास का इस्तेमाल करना चाहिए। इसके अलावा एक्स-रे फिल्म से भी साधारण: सूर्य ग्रहण की घटना को देखा जा सकता है। दूरबीन या पिनहोल द्वारा देखने से नुकसान पहुंच सकता है।

योग और सूर्य ग्रहण

आज सुबह 10 बजकर 15 मिनट से सूर्य ग्रहण लग रहा है जो दोपहर 3 बजकर 4 मिनट में खत्म होगा। कोशिश करें कि सूर्य ग्रहण लगने से पूर्व ही आप योग करें, हालांकि ग्रहण के दौरान भी योग किया जा सकता है। परंतु ध्यान रहे योग करने के लिए बाहर न जाएं। घर पर ही याेग करें। आपको बता दें भारत में सुबह 10 बजकर 15 मिनट से सूर्य ग्रहण आरंभ हो जाएगा। बताया जा रहा है कि दोपहर 12 बजकर 10 मिनट पर सूर्य ग्रहण अपने चरम पर होगा।

लोगो की प्रतिक्रिया

Raviranjan Kumar - Sushant Singh Rajput ki ghatna ka cbi janch hona cahiea

  • 21 June 2020

अपनी प्रतिक्रिया दे