विश्वनाथ बाबू कर्मयोगी शिक्षक के साथ-साथ मार्गदर्शक भी थे: गुड्डू पासवान

ताजा खबरें

रवि कुमार सिंह की रिपोर्ट

खगड़िया : जिला परिषद् शिक्षा समिति के पूर्व अध्यक्ष डॉ. विद्यानन्द दास के पूज्य पिता 82 वर्षीय सेवा निवृत शिक्षक विश्वनाथ दास का आकस्मिक निधन शनिवार को उनके पैतृक ग्राम सन्हौली में हो गया।श्री दास के निधन पर काँग्रेस जिला अध्यक्ष कुमार भानू प्रताप उर्फ गुड्डू पासवान ने गहरा शोक संवेदना प्रकट करते हुए उनके आत्मा की शांति हेतु व उनके परिजन को दुख सहने की शक्ति प्रदान करने हेतु ईश्वर से प्रार्थना किया।उन्होंने कहा कि विश्वनाथ बाबू एक कर्मयोगी शिक्षक के साथ साथ हमलोगों का मार्गदर्शक भी थे।वहीं दलित युवा संग्राम परिषद् के प्रदेश अध्यक्ष आचार्य राकेश पासवान शास्त्री ने गहरा शोक व्यक्त करते हुए कहा कि हम एक गुरु और अभिभावक खो दिये हैं।जब-जब संकट की घड़ी सामने होगी तब-तब विश्वनाथ बाबू का आशीर्वाद स्वरूप बताये गये सुविचार काम आयेगी।उनके कृतित्व एवं व्यक्तित्व सदा स्मरणीय रहेगा।वे अपने पीछे भरापुरा परिवार छोड़ गये। वहीं बखरी विधान सभा क्षेत्र के निवर्तमान भाजपा प्रत्याशी रामशंकर पासवान,कांग्रेस प्रवक्ता अरूण कुमार अधिवक्ता, शिक्षक संघ के नेता मनीष कुमार सिंह, कांग्रेस प्रखण्ड अध्यक्ष मोहम्मद नौशाद आलम, कांग्रेस नेता रतन शर्मा, बिहार राज्य ग्रामीण आवास कर्मी संघ के जिला संयोजक संतोष आर्या, विनोद सिंह, इन्जीनियर अभिषेक कुमार, सुभाष पासवान, लोजपा नेता पंकज पासवान, धर्मेन्द्र नारायण झा,सेफ्टी ऑफिसर सत्यनारायण पासवान,चन्द्र भूषण झा,जवाहर पासवान,प्रभात कुमार, नाबो कुमार आदि दर्जनों व्यक्तियों ने सेवा निवृत शिक्षक विश्वनाथ दास के निधन पर गहरा शोक संवेदना प्रकट किया।श्री दास का अंतिम संस्कार रविवार को बुढ़ी गंडक नदी अघोरी स्थान के निकट किया गया।मुखाग्नि उनके छोटे पुत्र शिक्षक परमानंद भारती ने दिया ।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *