दिखावे का प्रतिबंध:इमरान सरकार ने 10 दिन में टिकटॉक से बैन हटाया; 2018 से 2019 के बीच पाकिस्तान में 8 लाख वेबसाइट्स बैन की गईं

देश दुनिया

पाकिस्तान के लोग एक बार फिर वीडियो शेयरिंग ऐप टिकटॉक का इस्तेमाल कर सकेंगे। इमरान सरकार ने 10 दिन पहले लगाया बैन सोमवार को हटा लिया। पाकिस्तान टेलिकॉम्युनिकेशन अथॉरिटी (पीटीए) ने एक बयान में कहा- टिकटॉक मैनेजमेंट ने हमें भरोसा दिलाया है कि वे उन सभी अकाउंट्स को ब्लॉक करेंगे जो अश्लीलता या आपत्तिजनक वीडियो पोस्ट करते हैं। वे पाकिस्तान सरकार की गाइडलाइन्स का पालन करेंगे।

9 अक्टूबर को यह बैन लगाया गया था। 19 अक्टूबर को हटा लिया गया। ह्यूमन राइट्स पर नजर रखने वाली संस्था फ्रीडम हाउस के मुताबिक, जून 2018 से मई 2019 के बीच पाकिस्तान सरकार ने कुल 8 लाख वेबसाइट्स को ब्लॉक किया है।

टिकटॉक का नपातुला बयान
पाकिस्तान सरकार और उसका पीटीए डिपार्टमेंट भले ही नियमों के पालन पर कोई भी दावा कर रहा हो, लेकिन चीनी कंपनी टिकटॉक ने इस बारे में नपातुला बयान जारी किया। इसमें नियमों या गाइडलाइन्स के पालन करने का कोई भरोसा नहीं दिलाया गया। कंपनी ने कहा- अगर पाकिस्तान सरकार हमारी सेवाएं फिर शुरू करने जा रही है तो हम इसे लोगों और बाजार को पहुंचाने के लिए तैयार हैं। यह पहले की तरह काम करता रहेगा। हमने पीटीए से बातचीत की है।

पीटीए का दावा अलग
पीटीए और टिकटॉक के बयान अलग-अलग हैं। जहां सरकार दावा कर रही है कि टिकटॉक गाइडलाइन्स का पालन करेगी। वहीं, टिकटॉक के बयान में इसका कहीं जिक्र नहीं है। पीटए ने अपने बयान में कहा- पाकिस्तान में कोई भी ऐप अपनी मर्जी से नहीं चल सकता। उसे मजहबी और सामाजिक नियमों के दायरे में काम करना होगा। 9 अक्टूबर को बैन के बाद सिंध और इस्लामाबाद हाईकोर्ट में इसके खिलाफ याचिकाएं दायर की गईं थीं। हाईकोर्ट ने इस पर सरकार से जवाब तलब किया था।

12वीं पायदान पर पाकिस्तान
रिसर्च फर्म सेन्सर टॉवर के मुताबिक, पाकिस्तान में टिकटॉक के 3.9 करोड़ यूजर हैं। यह पाकिस्तान में पिछले कुछ समय में तीसरा सबसे ज्यादा डाउनलोड किया जानेवाला ऐप है। इस ऐप को डाउनलोड करने के मामले में पाकिस्तान दुनिया में 12वें स्थान पर है। इससे पहले वॉट्सऐप और फेसबुक ऐप डाउनलोड में टॉप पर रहे। यूट्यूब को पाकिस्तान में 2012 से 2016 तक बैन किया गया था। इसके बाद एक नया सायबर सिक्योरिटी कानून पास किया गया। इसमें सोशल मीडिया के लिए गाइडलाइन्स तय की गईं।

खतरे में पड़ गई थी सरकार
कुछ महीने पहले पाकिस्तान की दो टिकटॉक स्टार हरीम शाह और संदल खटक के वीडियो वायरल हुए थे। इनमें वो प्रधानमंत्री इमरान और कुछ मंत्रियों के साथ नजर आईं थीं। तब इन मंत्रियों का काफी विरोध हुआ था। मीडिया में कई दिनों तक मुद्दा छाया रहा था। आरोप है कि मामले को ठंडा करने के लिए इन लड़कियों को कनाडा भेज दिया गया। इसके बाद कई संगठनों ने टिकटॉक को बैन करने की मांग की थी।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *